• Download Dailyhunt App

Sign UP / Sign In



 

Category

Home > Hindi > Kena Upanishad

Kena Upanishad ( केन उपनिषद् )

Author: श्री श्री रविशंकर

Hindi

149 ( 50% off)
75

  • My Rating


  • Review Title


  • Review Comment



To read this book you need to Download the Dailyhunt App on your phone. Available in Android, Windows & Iphone

उपनिषद का अर्थ है – समीप आकर बैठना या समीप आना – व्यक्तिगत मन का सार्वभौमिक मन के समीप आना, सीमित का असीमित के समीप आना। सीमित मन का असीमित को या अज्ञात का ज्ञात को जानने की चेष्टा करना। उपनिषद – समीप आकर बैठना। लगभग 1100 उपनिषद पाये जाते है। जिनमें से ग्यारह उपनिषद सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण हैं। हुआ।यह भी कहा जा सकता है कि इसमें शिष्य अपने गुरू के समीप रह कर उससे क्रमशः ज्ञान प्राप्त करता है क्योंकि गुरु ज्ञान का मूर्तरूप है। यह विश्व जो इतनी विविधताओं से भरा पड़ा है। जहाँ अस्तित्व, आपसी के समीप आ सकता है? इसके लिए निश्चय ही कुशलता चाहिए।

  • Release Date:
  • Book Size: 400 KB
  • Language: Hindi
  • Category: Dharmik, Adhyatma Vishayak

  • 2017-10-25 06:33:21.0

    Jokhan Wala


  • 2017-04-19 07:37:53.0

    Mazhar Ansari


  • 2017-01-27 21:35:59.0

    Devanjali Rawat






Top

If you want to read ebooks please download our app in your favorite mobile